रविवार, 15 फ़रवरी 2009

गायत्री मंत्र

ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेन्यं । भर्गो देवस्य धीमहि, धीयो यो न: प्रचोदयात्

ॐ - स्वर जो अध्यात्म से भरा है। देवों के देव।
भू - धरती या भूमी
र्भुवः - वातावरण
स्वः - वातावरण के अलावा, स्वर्ग
तत् - वो
सवितुर - सूर्य या तेजोमय
वरेण्यं - नमन करने लायक
भर्गो - महत्ता या शक्ति
देवस्य - भगवान
धीमहि - ध्यान करना
धियो - ज्ञान
यो - कौन, उनके सिवा
नः - हमारे या हमें
प्रचोदयात् - देने का आग्रह

========================================================

परमपिता परमेश्वर, जो धरती, आकाश और ब्रह्माण्ड के स्वामी हैं। जो दिव्यमान ज्योति हैं और नमन के योग्य हैं। स शक्तिमान देव का मैं ध्यान करता हूँ और उनसे ज्ञान की याचना करता हूँ ।

मैंने दो घंटे से ज्यादा समय ऊपर के भावार्थ को समझने में लगाया, पर अंत में अच्छा लगा गायत्री मंत्र के भाव को समझकर। वर्षों से मैं गायत्री मंत्र पढ़ रहा था बिना मतलब समझे। अब अच्छा लगेगा भाव के साथ मंत्र पढ़कर।

16 टिप्‍पणियां:

  1. गायत्री मंत्र का शब्दशः अर्थ देने हेतु आपका धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  2. bina matlab ke bhi kuch karna pade to yousko bhi iswar ko samarpit karne ka bhawa man mai lena aur lana bhi gayatri hai gaya+yatri = jeevan yatra

    उत्तर देंहटाएं
  3. in mantro ko padkar shanti or sukh milta hai or bhagwan mi dhain lagta hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. me vigat 25 sal se yah mantr kar rha hau isase mujhe aatm shanti or koi ghatna ke purv ka aabhas
    hota hai

    nveen kumar gupta chhatarpur (m.p.)

    उत्तर देंहटाएं
  5. mujhe vishwas nahi ho raha ki aap ko yeh siddhi prapt hai. this is great work for world.

    उत्तर देंहटाएं
  6. how about this--
    "us praanswaroop,dukhnashak,sukhswaroop,shreshtha, tejaswi,paapnashak,devswaroop,parampita paramatma ko hum apni antaraatma me dhaaran kare. Vah paramatma hamari buddhi ko sanmarg me prerit kare." Ashish kumar

    उत्तर देंहटाएं
  7. yadi yeh mantra aap 108 wali rudraksha mala se 1.lakh barjap karke dekhiye to aap payenge ki aap ki sab indriya khuljayenge app o ehsas ho jaayega sab rgonse bhi mukta hojayenge

    Premsingh ale magar

    उत्तर देंहटाएं
  8. looks like you are deep into it.

    what is a way out of problems in life, is it gayatri only or anything else can relieve me.

    what about gita jee

    उत्तर देंहटाएं
  9. mujhe nahi pata....gaytri mantra main kitni shakti hai.....kyunki ye meri soch se bhi bahar hai.... lekin mene soch liya hai .... aub subah uthkar sabse pehle gaytri mantra se hi apni subah shuru karunga.

    उत्तर देंहटाएं
  10. mai pregnant hu or mujhe gayatri mantra ka jap karne ke liye kaha gaya hai ki isse mere bachhe mai achhe gun aainge or vo vidwan hoga.

    उत्तर देंहटाएं
  11. गायत्री मंत्र महान मंत्र हैं इसका विधि पूर्वक जप करने से यह लोक और परलोक दोनों सुधर जाते हैं इसके जप से दिव्य ज्ञान प्राप्त होता हैं और एक प्रकार की शक्ति मिलती हैं | गायत्री मंत्र का शब्दार्थ देने के लिए आपको धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  12. गायत्री त्री पदा कहलाती है इसके बारेमें आपके पास कोइ जानकारी होतो अवस्य लीखे।

    उत्तर देंहटाएं
  13. गायत्री मंत्र का शब्दशः अर्थ देने हेतु आपका धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं